गरुड़ पुराण


  ⛳⛳🚩गरुड़ पुराण 📚⛳
    📚|| अध्याय- (2) ||📚

📘👉🏼मरणासन्न व्यक्ति के लिए कल्याणकारी कर्म👇🏻

📗सब से पहले भूमि को गोबर से तोपना चाहिए। फिर जल की रेखा से मंडल बना कर, उस पर तिल और कुश घास बिछा कर मरणासन्न व्यक्ति को उस पर सुला देना चाहिए। उस के मूंह में पंचरत्न / स्वर्ण आदि डालने से सब पापों को जला कर मुक्त कर देता है। भूत, प्रेत आत्माएं और यम के दूत अपवित्र स्थान और ज़मीन के ऊपर रखी चारपाई से मृत शरीर में प्रवेश करते हैं।

📕उस के मूंह में गंगा जल डालना चाहिए, अथवा तुलसी का पत्ता रखना चाहिए।
 भी शोक न मनाता हुआ, उस के पास प्रभु का नाम ले।

जब तक प्राण हैं, विष्णु का नाम ले।

📘यमराज का अपने दूतों को आदेश है कि मेरे पास उन आत्माओं को लाओ जो "हरी" का नाम नहीं लेते। "ॐ", " हरी" को जपने वाले मेरे पास नहीं आते। पापी मनुष जो नारायाण को नहीं मानते, उन के कितने ही पुन्य कर्म उन के पापों को नहीं मिटा सकते।

📗हे गरुड़, जाने या अनजाने में मनुष, जो भी पाप करते हैं, उन पापों की शुद्धि के लिए उन्हें प्रायश्चित करना चाहिए / शाश्त्रों में दशविधि स्नान, च्न्द्राय्न्ना व्रत, गौ दान, आदि का लेख किया गया है। यदि मनुष उन में क्षमता के कारण सफल न हो रहा हो तो कम से कम चौथाइ प्राय्क्चित अवश्य करना चाहिए। तत्पश्चात 10 महादान, गौ, भूमि, तिल, स्वर्ण घी, वस्त्र, गुड, रजत, लवण, इन का दान करना चाहिए। यह पाप की शुद्धि के लिए, पवित्रता में एक से एक बढ़ कर हैं। 

📒यमदुआर पर पहुँचने के जो मार्ग बताये गए हैं, वह अत्यंत दुर्ग्न्धिक, मवाद, रक्त्त आदि से परिव्याप्त हैं। अत: उस मार्ग में स्थित वैतरणी नदी को पार करने के लिए वैतरणी- गौ (जो गौ सर्वांग में काली हो और जिस के थन भी काले हों ) का दान करने चाहिए। यह सब उत्तम प्रकृति वाले ब्राह्मण को देना चाहिए। 🌴

📚📚पद दान का महत्व:📚📚

📘छत्र, जूता, वस्त्र, अंगूठी, कमंडलू, आसन, पात्र और भोजन पदार्थ, यह आठ प्राकर के पद दान हैं। तिल पात्र, घृत पात्र, शय्या, तथा और जो अपने को ईष्ट हो, देना चाहिए।

📘हे पक्षी राज, इस पृथ्वी पर जिस ने पाप का प्रायश्चित कर लिया है, सब प्रकार के दान भी दे चूका है, वैतरणी -गौ तथा अष्ट दान कर चूका है, जो तिल से पूर्ण पात्र, घी से भरा पात्र, शय्या दान और विधिवत पद दान करता है, वह नर्क रुपी गर्भ में नहीं आता, अर्थात उस का पुनर्जन्म नहीं होता।

📘मनुष स्वय जो दान करता है, परलोक में वह सब उसे प्राप्त होता है। वहां उस के आगे रखा हुआ मिलता है।

📘छत्र दान करने से मार्ग में सुख प्रदान करने वाली छाया प्राप्त होती है।

📘पादुका दान से वह मनुष्य घोड़े पर सवार हो कर सुखपूर्वक मार्ग पार करता है।

📘जल से परिपूर्ण कमंडलू के दान से मनुष्य सुख पूर्वक परलोक गमन करता है।

📘वस्त्र - आभूषण दान करने से यम दूत प्राणी को कष्ट नहीं देते।

📗तिल( सफ़ेद, काले, भूरे ) के दान से, मन, वाणी, और शरीर से किये हुए पाप नष्ट होते हैं।

📕सभी साधनों से युक्त शय्या दान से स्वर्ग लोक में 60000 वर्ष तक, इंद्र लोक के भोग भोगता है।

📒इस के अतिरिक्त, गौ दान देते समय "नान्दानान्दानाम" के उच्चारण करने से वेत्रनी नदी में नहीं गिरता।

📒दुखद, और बिमारी के समय, तिल, लोहा, सोना, रूई का वस्त्र, नमक, सात अनाज, भूमि का टुकड़ा, देने से पाप कर्मों की शुद्धि होती है।

📗लोहा दान करने से, यम की नगरी में नहीं जाता। लोहे का दान, हाथों को जमीन के साथ छूते हुए देना चाहिए। यम राज के हाथों में कई प्रकार के लोहे के अस्त्र होते हैं। यह दान उन अस्त्रों के प्रभाब को कम करता है|

📗सोने का दान, यम राज की सभा में उपस्थित, ब्रह्मा, और दुसरे ऋषि मुनिओं को प्रसन्न करता है जो की वरदान की संज्ञा रखता है।

📗रूई के वस्त्र से यमदूत, कष्ट नहीं देते।

📒सात अनाजों के दान से, यम दूआरों पर तैनात कर्मचारी आनन्दित होते हैं।

📘भूमि के टुकड़े पर, जिस पर फसल हो, देने से इंद्र लोक की प्राप्ति होती है।

📕पूरे होश में रहते हुए, एक गौ का दान, बीमार अवस्था में एक सो (100) और मरणासन्न के समय एक हजार गौ दान करने के बराबर है।

📘एक गौ केवल एक जन को ही दी जानी चाहिए। वह यदि इस गौ को बेचता है या किसी दुसरे के साथ इस का बटवारा करता है, तो उस का परिवार सात पीढयों तक पीडत रहता है।

📘गौ दान करने की विधि👇🏻

काली या भूरी गौ के सींगों पर सोने का पत्र, और पैरों में चांदी पहनाएं।

इस का दूध पीतल के बर्तन में निकालें।

गौ के ऊपर काले कपडे का दोशाळा डाले।

📗दूध वाले बर्तन को ढक कर, रूई के ऊपर रखें।इस के पास यमराज की एक सोने की मूर्ती, एक लोहे का टुकड़ा, पीतल के बर्तन में घी, यह सब गौ के ऊपर रखें।

📒गन्ने की पौरिओं से, रेशम की डोर से बंधा एक फट्टा बना कर, धरती में एक गड्ढा बना कर, पानी से भरें और फट्टा को इस में रखें।

📒🙏🏾गौ की पूंछ पकड़ कर, पैर फट्टा पर रख कर, ब्राह्मिन को दान- दक्षिणा, नमस्कार करके, मन्त्र का उच्चारण करते हुए भगवान् विष्णु से नम्र प्रार्थना करें की हे प्रभु, आप सब प्रानिओं के दाता, रक्षक और कल्याणकारी हैं। आपके चरणों में यह उपहार भेंट करता हुआ, वेतारनी नदी को नमस्कार करता हूँ। हे गौ माता, आप देवी शक्ति के रूप में, मेरे पापों का खंडन करें। फिर हाथ जोड़े हुए, यम राज को गौ की प्रतिमा में देखते हुए, इन सब के गिर्द एक चक्कर लगा कर ब्राह्मिन को दान में दें।

गौ दान के लिए शुभ समय, स्थान :

सभी नहाने वाले पवित्र स्थल

ब्राह्मिनों के निवास स्थान

सूर्य, चन्द्र ग्रेहन

नये चाँद वाले दिन 

📘थोड़ी सम्पत्ति, धन अपने हाथों से दान में दी हुई का प्रभाव सदा ही रहता है। धन, सम्पत्ति, पत्नी, परिवार, सब विनाश होने वाले हैं इस लिए पुण्य कर्मों को संचित करो। पुण्य - दान, छोटे-बड़े से मेरे को कोई फर्क नहीं पड़ता।

📕लालच के कारण जो पापी लोग, बीमारीओं में पुण्य - दान नहीं करते, वह सदा दुखी ही रहते हैं।

📒पुत्र, पौत्र, भाई, बन्धु, मित्र, जो मरणासन्न व्यक्ति के लिए, दान पुण्य नहीं करते, उन्हें ब्राह्मिन हत्या का पाप लगता है।

📗इन बताए गये सभी प्रकार के दानों में प्राणी की श्रद्धा और अश्रद्धा से आई हुई दान की अधिकता और कमी के कारण उस के फल में श्रेष्ठता और लघुता आती है।

📕भूमि पर बने इस मंडल में ब्रह्मा, विष्णु, रूद्र, लक्ष्मी तथा अग्नि देवता विराजमान हो जाते हैं। अत: मंडल का निर्माण अवश्य करना चाहिए। मंडलवहींन भूमि पर प्राणत्याग करने पर, उसे अन्य योनी नहीं प्राप्त होती। उस की जीव आत्मा वायु के साथ भटकती रहती है।

📗तिल मेरे पसीने से उत्पन्न हुए हैं।इस का प्रयोग करने पर असुर, दानव, दैत्ये भाग जाते हैं। एक ही तिल का दाना स्वर्ण के बत्तीस सेर तिल के बराबर हैं।

📕कुश मेरे शरीर के रोमों से उत्पन्न हुए हैं। कुश के मूल में ब्रह्मा, मध्य में विष्णु, तथा अग्र भाग में शिव को जानना चाहिए। इस लिए देवताओं की त्रप्ति के लिए मुख रूप से "कुश" को, और पितरों की तृप्ति के लिए "तिल " का महत्व है। 

📘हे पक्षी श्रेष्ट, विष्णु, एकादशी व्रत, गीता, तुलसी, ब्राह्मिन और गौ, यह छे, दुर्गम असार- संसार में लोगों को मुक्ति प्रदान करने के साधन हैं। अंतिम साँसों में "ओ गंगा, ओ गंगा, भागवत गीता के शलोक अथवा "हरी" का नाम जपने से मंगल कारी होता है।

📕मृतु काल में मरणासन्न के दोनो हाथों में "कुश" रखना चाहिए / इस से प्राणी विष्णु लोक को प्राप्त होता है।

लावनारस, पितरों को प्रिय होता है अथवा स्वर्ग प्रदान करता है।

📘उस के समीप, तुलसी का पेड़, शालग्राम की शिल्ला ( सभी पापों को नष्ट करती है), भी लाकर रखें। जिस घर में तुलसी स्थल बना कर तुलसी की पूजा होती है वह एक पवित्र नहाने का स्थान माना जाता है और यम के दूत वहां नहीं आते।

📒इस के बाद, यथा विधान सूतकों का पाठ करना चाहिए। ऐसा करने से मृत्यु मुक्ति दायक होती है। 

📒शोक न मनाते, पुत्र को सर मुंडवा कर नए वस्त्र्र धारण कर, अपने प्रियजनों के साथ लाश को नहलाना चाहिए।

📕इस के बाद मरे हुए व्यक्ति के शरीरगत विभिन सथानों में ( मुख, नाक के छिदर, नेत्र, कान, लिंग, ब्रह्माण्ड ) पर सोने की शालाखें रखें।

📘उस के शव को दो वस्त्रों से आच्छादित करके कुंकुम और अक्षत से पूजन करना चाहिए।

📘घर की बहुरानी और दूसरों को लाश की गिर्द चक्कर लगा कर उसे पूजन चाहिए और मरण स्थल पर चावल की खील ( लाइ) अर्पित करना चाहिए। ऐसा करने से धरती माता और दिव्य शक्तिंयां प्रस्सन होती हैं।

📗पुष्पों की माला से विभूषत करके, उसे पुत्र, बंधुओं के साथ दुआर से लेजाया जाए। उस समय पुत्र को मरे हुए पिता के शव को कंधे पर रख कर स्वयं ले जाना चाहिए। यदि मनुष को मोक्ष न मिलता हो, तो पुत्र नर्क से उसका उद्दार कर देता है। जो पुत्र लाश को कन्धा देता है, उसे हर कदम पर अश्व मेघ यघ का फल मिलता है।🌴

     🏞🙏🏾भक्ति सागर 🙏🏾🏞
  ⛳⛳🚩गरुड़ पुराण 📚⛳🙏🏾

    📚|| अध्याय- (2) ||📚

📘👉🏼मरणासन्न व्यक्ति के लिए कल्याणकारी कर्म👇🏻

📗सब से पहले भूमि को गोबर से तोपना चाहिए। फिर जल की रेखा से मंडल बना कर, उस पर तिल और कुश घास बिछा कर मरणासन्न व्यक्ति को उस पर सुला देना चाहिए। उस के मूंह में पंचरत्न / स्वर्ण आदि डालने से सब पापों को जला कर मुक्त कर देता है। भूत, प्रेत आत्माएं और यम के दूत अपवित्र स्थान और ज़मीन के ऊपर रखी चारपाई से मृत शरीर में प्रवेश करते हैं।

📕उस के मूंह में गंगा जल डालना चाहिए, अथवा तुलसी का पत्ता रखना चाहिए।
 भी शोक न मनाता हुआ, उस के पास प्रभु का नाम ले।

जब तक प्राण हैं, विष्णु का नाम ले।

📘यमराज का अपने दूतों को आदेश है कि मेरे पास उन आत्माओं को लाओ जो "हरी" का नाम नहीं लेते। "ॐ", " हरी" को जपने वाले मेरे पास नहीं आते। पापी मनुष जो नारायाण को नहीं मानते, उन के कितने ही पुन्य कर्म उन के पापों को नहीं मिटा सकते।

📗हे गरुड़, जाने या अनजाने में मनुष, जो भी पाप करते हैं, उन पापों की शुद्धि के लिए उन्हें प्रायश्चित करना चाहिए / शाश्त्रों में दशविधि स्नान, च्न्द्राय्न्ना व्रत, गौ दान, आदि का लेख किया गया है। यदि मनुष उन में क्षमता के कारण सफल न हो रहा हो तो कम से कम चौथाइ प्राय्क्चित अवश्य करना चाहिए। तत्पश्चात 10 महादान, गौ, भूमि, तिल, स्वर्ण घी, वस्त्र, गुड, रजत, लवण, इन का दान करना चाहिए। यह पाप की शुद्धि के लिए, पवित्रता में एक से एक बढ़ कर हैं। 

📒यमदुआर पर पहुँचने के जो मार्ग बताये गए हैं, वह अत्यंत दुर्ग्न्धिक, मवाद, रक्त्त आदि से परिव्याप्त हैं। अत: उस मार्ग में स्थित वैतरणी नदी को पार करने के लिए वैतरणी- गौ (जो गौ सर्वांग में काली हो और जिस के थन भी काले हों ) का दान करने चाहिए। यह सब उत्तम प्रकृति वाले ब्राह्मण को देना चाहिए। 🌴

📚📚पद दान का महत्व:📚📚

📘छत्र, जूता, वस्त्र, अंगूठी, कमंडलू, आसन, पात्र और भोजन पदार्थ, यह आठ प्राकर के पद दान हैं। तिल पात्र, घृत पात्र, शय्या, तथा और जो अपने को ईष्ट हो, देना चाहिए।

📘हे पक्षी राज, इस पृथ्वी पर जिस ने पाप का प्रायश्चित कर लिया है, सब प्रकार के दान भी दे चूका है, वैतरणी -गौ तथा अष्ट दान कर चूका है, जो तिल से पूर्ण पात्र, घी से भरा पात्र, शय्या दान और विधिवत पद दान करता है, वह नर्क रुपी गर्भ में नहीं आता, अर्थात उस का पुनर्जन्म नहीं होता।

📘मनुष स्वय जो दान करता है, परलोक में वह सब उसे प्राप्त होता है। वहां उस के आगे रखा हुआ मिलता है।

📘छत्र दान करने से मार्ग में सुख प्रदान करने वाली छाया प्राप्त होती है।

📘पादुका दान से वह मनुष्य घोड़े पर सवार हो कर सुखपूर्वक मार्ग पार करता है।

📘जल से परिपूर्ण कमंडलू के दान से मनुष्य सुख पूर्वक परलोक गमन करता है।

📘वस्त्र - आभूषण दान करने से यम दूत प्राणी को कष्ट नहीं देते।

📗तिल( सफ़ेद, काले, भूरे ) के दान से, मन, वाणी, और शरीर से किये हुए पाप नष्ट होते हैं।

📕सभी साधनों से युक्त शय्या दान से स्वर्ग लोक में 60000 वर्ष तक, इंद्र लोक के भोग भोगता है।

📒इस के अतिरिक्त, गौ दान देते समय "नान्दानान्दानाम" के उच्चारण करने से वेत्रनी नदी में नहीं गिरता।

📒दुखद, और बिमारी के समय, तिल, लोहा, सोना, रूई का वस्त्र, नमक, सात अनाज, भूमि का टुकड़ा, देने से पाप कर्मों की शुद्धि होती है।

📗लोहा दान करने से, यम की नगरी में नहीं जाता। लोहे का दान, हाथों को जमीन के साथ छूते हुए देना चाहिए। यम राज के हाथों में कई प्रकार के लोहे के अस्त्र होते हैं। यह दान उन अस्त्रों के प्रभाब को कम करता है|

📗सोने का दान, यम राज की सभा में उपस्थित, ब्रह्मा, और दुसरे ऋषि मुनिओं को प्रसन्न करता है जो की वरदान की संज्ञा रखता है।

📗रूई के वस्त्र से यमदूत, कष्ट नहीं देते।

📒सात अनाजों के दान से, यम दूआरों पर तैनात कर्मचारी आनन्दित होते हैं।

📘भूमि के टुकड़े पर, जिस पर फसल हो, देने से इंद्र लोक की प्राप्ति होती है।

📕पूरे होश में रहते हुए, एक गौ का दान, बीमार अवस्था में एक सो (100) और मरणासन्न के समय एक हजार गौ दान करने के बराबर है।

📘एक गौ केवल एक जन को ही दी जानी चाहिए। वह यदि इस गौ को बेचता है या किसी दुसरे के साथ इस का बटवारा करता है, तो उस का परिवार सात पीढयों तक पीडत रहता है।

📘गौ दान करने की विधि👇🏻

काली या भूरी गौ के सींगों पर सोने का पत्र, और पैरों में चांदी पहनाएं।

इस का दूध पीतल के बर्तन में निकालें।

गौ के ऊपर काले कपडे का दोशाळा डाले।

📗दूध वाले बर्तन को ढक कर, रूई के ऊपर रखें।इस के पास यमराज की एक सोने की मूर्ती, एक लोहे का टुकड़ा, पीतल के बर्तन में घी, यह सब गौ के ऊपर रखें।

📒गन्ने की पौरिओं से, रेशम की डोर से बंधा एक फट्टा बना कर, धरती में एक गड्ढा बना कर, पानी से भरें और फट्टा को इस में रखें।

📒🙏🏾गौ की पूंछ पकड़ कर, पैर फट्टा पर रख कर, ब्राह्मिन को दान- दक्षिणा, नमस्कार करके, मन्त्र का उच्चारण करते हुए भगवान् विष्णु से नम्र प्रार्थना करें की हे प्रभु, आप सब प्रानिओं के दाता, रक्षक और कल्याणकारी हैं। आपके चरणों में यह उपहार भेंट करता हुआ, वेतारनी नदी को नमस्कार करता हूँ। हे गौ माता, आप देवी शक्ति के रूप में, मेरे पापों का खंडन करें। फिर हाथ जोड़े हुए, यम राज को गौ की प्रतिमा में देखते हुए, इन सब के गिर्द एक चक्कर लगा कर ब्राह्मिन को दान में दें।

गौ दान के लिए शुभ समय, स्थान :

सभी नहाने वाले पवित्र स्थल

ब्राह्मिनों के निवास स्थान

सूर्य, चन्द्र ग्रेहन

नये चाँद वाले दिन 

📘थोड़ी सम्पत्ति, धन अपने हाथों से दान में दी हुई का प्रभाव सदा ही रहता है। धन, सम्पत्ति, पत्नी, परिवार, सब विनाश होने वाले हैं इस लिए पुण्य कर्मों को संचित करो। पुण्य - दान, छोटे-बड़े से मेरे को कोई फर्क नहीं पड़ता।

📕लालच के कारण जो पापी लोग, बीमारीओं में पुण्य - दान नहीं करते, वह सदा दुखी ही रहते हैं।

📒पुत्र, पौत्र, भाई, बन्धु, मित्र, जो मरणासन्न व्यक्ति के लिए, दान पुण्य नहीं करते, उन्हें ब्राह्मिन हत्या का पाप लगता है।

📗इन बताए गये सभी प्रकार के दानों में प्राणी की श्रद्धा और अश्रद्धा से आई हुई दान की अधिकता और कमी के कारण उस के फल में श्रेष्ठता और लघुता आती है।

📕भूमि पर बने इस मंडल में ब्रह्मा, विष्णु, रूद्र, लक्ष्मी तथा अग्नि देवता विराजमान हो जाते हैं। अत: मंडल का निर्माण अवश्य करना चाहिए। मंडलवहींन भूमि पर प्राणत्याग करने पर, उसे अन्य योनी नहीं प्राप्त होती। उस की जीव आत्मा वायु के साथ भटकती रहती है।

📗तिल मेरे पसीने से उत्पन्न हुए हैं।इस का प्रयोग करने पर असुर, दानव, दैत्ये भाग जाते हैं। एक ही तिल का दाना स्वर्ण के बत्तीस सेर तिल के बराबर हैं।

📕कुश मेरे शरीर के रोमों से उत्पन्न हुए हैं। कुश के मूल में ब्रह्मा, मध्य में विष्णु, तथा अग्र भाग में शिव को जानना चाहिए। इस लिए देवताओं की त्रप्ति के लिए मुख रूप से "कुश" को, और पितरों की तृप्ति के लिए "तिल " का महत्व है। 

📘हे पक्षी श्रेष्ट, विष्णु, एकादशी व्रत, गीता, तुलसी, ब्राह्मिन और गौ, यह छे, दुर्गम असार- संसार में लोगों को मुक्ति प्रदान करने के साधन हैं। अंतिम साँसों में "ओ गंगा, ओ गंगा, भागवत गीता के शलोक अथवा "हरी" का नाम जपने से मंगल कारी होता है।

📕मृतु काल में मरणासन्न के दोनो हाथों में "कुश" रखना चाहिए / इस से प्राणी विष्णु लोक को प्राप्त होता है।

लावनारस, पितरों को प्रिय होता है अथवा स्वर्ग प्रदान करता है।

📘उस के समीप, तुलसी का पेड़, शालग्राम की शिल्ला ( सभी पापों को नष्ट करती है), भी लाकर रखें। जिस घर में तुलसी स्थल बना कर तुलसी की पूजा होती है वह एक पवित्र नहाने का स्थान माना जाता है और यम के दूत वहां नहीं आते।

📒इस के बाद, यथा विधान सूतकों का पाठ करना चाहिए। ऐसा करने से मृत्यु मुक्ति दायक होती है। 

📒शोक न मनाते, पुत्र को सर मुंडवा कर नए वस्त्र्र धारण कर, अपने प्रियजनों के साथ लाश को नहलाना चाहिए।

📕इस के बाद मरे हुए व्यक्ति के शरीरगत विभिन सथानों में ( मुख, नाक के छिदर, नेत्र, कान, लिंग, ब्रह्माण्ड ) पर सोने की शालाखें रखें।

📘उस के शव को दो वस्त्रों से आच्छादित करके कुंकुम और अक्षत से पूजन करना चाहिए।

📘घर की बहुरानी और दूसरों को लाश की गिर्द चक्कर लगा कर उसे पूजन चाहिए और मरण स्थल पर चावल की खील ( लाइ) अर्पित करना चाहिए। ऐसा करने से धरती माता और दिव्य शक्तिंयां प्रस्सन होती हैं।

📗पुष्पों की माला से विभूषत करके, उसे पुत्र, बंधुओं के साथ दुआर से लेजाया जाए। उस समय पुत्र को मरे हुए पिता के शव को कंधे पर रख कर स्वयं ले जाना चाहिए। यदि मनुष को मोक्ष न मिलता हो, तो पुत्र नर्क से उसका उद्दार कर देता है। जो पुत्र लाश को कन्धा देता है, उसे हर कदम पर अश्व मेघ यघ का फल मिलता है।🌴

     🏞🙏🏾भक्ति सागर 🙏🏾🏞

लडकी बेटी पाप मां

लडकी बेटी पाप मां

💇💇💇💇💇💇💇

एक औरत गर्भ से थी
पति को जब पता लगा
की कोख में बेटी हैं तो
वो उसका गर्भपात
करवाना चाहते हैं
दुःखी होकर पत्नी अपने
पति से क्या कहती हैं :-

👧👧👧👧👧👧👧👧
🙏सुनो,
ना मारो इस नन्ही कलि को,
वो खूब सारा प्यार हम पर
लुटायेगी,
जितने भी टूटे हैं सपने,
फिर से वो सब सजाएगी..

👼👼👼👼👼👼👼
😒सुनो,
ना मारो इस नन्ही कलि को,
जब जब घर आओगे
तुम्हे खूब हंसाएगी,
तुम प्यार ना करना
बेशक उसको,
वो अपना प्यार लुटाएगी..

👸👸👸👸👸👸👸👸👸
😡सुनो
ना मारो इस नन्ही कलि को,
हर काम की चिंता
एक पल में भगाएगी,
किस्मत को दोष ना दो,
वो अपना घर
आंगन महकाएगी..

💇💇💇💇💇💇💇💇💇💇
😑ये सब सुन पति
अपनी पत्नी को कहता हैं :-

👧👧👧👧👧👧👧
👩सुनो
में भी नही चाहता मारना
इसनन्ही कलि को,
तुम क्या जानो,
प्यार नहीं हैं
क्या मुझको अपनी परी से,
पर डरता हूँ
समाज में हो रही रोज रोज
की दरिंदगी से..

👼👼👼👼👼👼👼😿
😳क्या फिर खुद वो इन सबसे अपनी लाज बचा पाएगी,
क्यूँ ना मारू में इस कलि को,
वो बहार नोची जाएगी..
में प्यार इसे खूब दूंगा,
पर बहार किस किस से
बचाऊंगा,

👸👸👸👸👸👸👸👸
😨जब उठेगी हर तरफ से
नजरें, तो रोक खुद को
ना पाउँगा..
क्या तू अपनी नन्ही परी को,
इस दौर में लाना चाहोगी,


👨👨👨👨👨👨👨👨👨👨
😞जब तड़फेगी वो नजरो के आगे, क्या वो सब सह पाओगी,
क्यों ना मारू में अपनी नन्ही परी को, क्या बीती होगी उनपे,
जिन्हें मिला हैं ऐसा नजराना,
क्या तू भी अपनी परी को
ऐसी मौत दिलाना चाहोगी..

🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅
👼ये सुनकर गर्भ से
आवाज आती है…..ं
सुनो माँ पापा-
मैं आपकी बेटी हूँ
मेरी भी सुनो :-

👧👧👧👧👧👧👧👧
🙆पापा सुनो ना,
साथ देना आप मेरा,
मजबूत बनाना मेरे हौसले को,
घर लक्ष्मी है आपकी बेटी,
वक्त पड़ने पर मैं काली भी बन जाऊँगी

👸👸👸👸👸👸👸👸
💁पापा सुनो,
ना मारो अपनी नन्ही कलि को, तुम उड़ान देना मेरे हर वजूद को,
में भी कल्पना चावला की तरह, ऊँची उड़ान भर जाऊँगी..

👧👧👧👧👧👧👧👧
🙅पापा सुनो,
ना मारो अपनी नन्ही कलि को, आप बन जाना मेरी छत्र छाया,
में झाँसी की रानी की तरह खुद की गैरो से लाज बचाऊँगी…

👼👼👼👼👼👼👼👼👼
😗पति (पिता) ये सुन कर
मौन हो गया और उसने अपने फैसले पर शर्मिंदगी महसूस
करने लगा और कहता हैं
अपनी बेटी से :-

👵👵👵👵👵👵👵👵👵👵
😞मैं अब कैसे तुझसे
नजरे मिलाऊंगा,
चल पड़ा था तेरा गला दबाने,
अब कैसे खुद को तेरेे सामने लाऊंगा,
मुझे माफ़ करना
ऐ मेरी बेटी, तुझे इस दुनियां में
सम्मान से लाऊंगा..

👧👧👧👧👧👧👧👧👧
😣वहशी हैं ये दुनिया
तो क्या हुआ, तुझे मैं दुनिया की सबसे बहादुर बिटिया
बनाऊंगा.

👶👶👶👶👶👶👶👶
👨मेरी इस गलती की
मुझे है शर्म,
घर घर जा के सबका
भ्रम मिटाऊंगा
बेटियां बोझ नहीं होती..
अब सारे समाज में
अलख जगाऊंगा...

एक हंस और हंसिनी

*ये कहानी आपको झकझोर देगी 2 मिनट में,एक अच्छी सीख अवश्य पढ़ें...*.

एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के सुरम्य वातावरण से भटकते हुए, उजड़े वीरान और रेगिस्तान के इलाके में आ गये!

हंसिनी ने हंस को कहा कि ये किस उजड़े इलाके में आ गये हैं ??

यहाँ न तो जल है, न जंगल और न ही ठंडी हवाएं हैं यहाँ तो हमारा जीना मुश्किल हो जायेगा !

भटकते भटकते शाम हो गयी तो हंस ने हंसिनी से कहा कि किसी तरह आज की रात बीता लो, सुबह हम लोग हरिद्वार लौट चलेंगे !

रात हुई तो जिस पेड़ के नीचे हंस और हंसिनी रुके थे, उस पर एक उल्लू बैठा था।

वह जोर से चिल्लाने लगा।

हंसिनी ने हंस से कहा- अरे यहाँ तो रात में सो भी नहीं सकते।

ये उल्लू चिल्ला रहा है।

हंस ने फिर हंसिनी को समझाया कि किसी तरह रात काट लो, मुझे अब समझ में आ गया है कि ये इलाका वीरान क्यूँ है ??

ऐसे उल्लू जिस इलाके में रहेंगे वो तो वीरान और उजड़ा रहेगा ही।

पेड़ पर बैठा उल्लू दोनों की बातें सुन रहा था।

सुबह हुई, उल्लू नीचे आया और उसने कहा कि हंस भाई, मेरी वजह से आपको रात में तकलीफ हुई, मुझे माफ़ करदो।

हंस ने कहा- कोई बात नही भैया, आपका धन्यवाद!

यह कहकर जैसे ही हंस अपनी हंसिनी को लेकर आगे बढ़ा

पीछे से उल्लू चिल्लाया, अरे हंस मेरी पत्नी को लेकर कहाँ जा रहे हो।

हंस चौंका- उसने कहा, आपकी पत्नी ??

अरे भाई, यह हंसिनी है, मेरी पत्नी है,मेरे साथ आई थी, मेरे साथ जा रही है!

उल्लू ने कहा- खामोश रहो, ये मेरी पत्नी है।

दोनों के बीच विवाद बढ़ गया। पूरे इलाके के लोग एकत्र हो गये।

कई गावों की जनता बैठी। पंचायत बुलाई गयी।

पंचलोग भी आ गये!

बोले- भाई किस बात का विवाद है ??

लोगों ने बताया कि उल्लू कह रहा है कि हंसिनी उसकी पत्नी है और हंस कह रहा है कि हंसिनी उसकी पत्नी है!

लम्बी बैठक और पंचायत के बाद पंच लोग किनारे हो गये और कहा कि भाई बात तो यह सही है कि हंसिनी हंस की ही पत्नी है, लेकिन ये हंस और हंसिनी तो अभी थोड़ी देर में इस गाँव से चले जायेंगे।

हमारे बीच में तो उल्लू को ही रहना है।

इसलिए फैसला उल्लू के ही हक़ में ही सुनाना चाहिए!

फिर पंचों ने अपना फैसला सुनाया और कहा कि सारे तथ्यों और सबूतों की जांच करने के बाद यह पंचायत इस नतीजे पर पहुंची है कि हंसिनी उल्लू की ही पत्नी है और हंस को तत्काल गाँव छोड़ने का हुक्म दिया जाता है!

यह सुनते ही हंस हैरान हो गया और रोने, चीखने और चिल्लाने लगा कि पंचायत ने गलत फैसला सुनाया।

उल्लू ने मेरी पत्नी ले ली!

रोते- चीखते जब वह आगे बढ़ने लगा तो उल्लू ने आवाज लगाई - ऐ मित्र हंस, रुको!

हंस ने रोते हुए कहा कि भैया, अब क्या करोगे ??

पत्नी तो तुमने ले ही ली, अब जान भी लोगे ?

उल्लू ने कहा- नहीं मित्र, ये हंसिनी आपकी पत्नी थी, है और रहेगी!

लेकिन कल रात जब मैं चिल्ला रहा था तो आपने अपनी पत्नी से कहा था कि यह इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए है क्योंकि यहाँ उल्लू रहता है!

मित्र, ये इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए नहीं है कि यहाँ उल्लू रहता है।

यह इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए है क्योंकि यहाँ पर ऐसे पंच रहते हैं जो उल्लुओं के हक़ में फैसला सुनाते हैं!

शायद 65 साल की आजादी के बाद भी हमारे देश की दुर्दशा का मूल कारण यही है कि हमने उम्मीदवार की योग्यता न देखते हुए, हमेशा ये हमारी जाति का है. ये हमारी पार्टी का है के आधार पर अपना फैसला उल्लुओं के ही पक्ष में सुनाया है, देश क़ी बदहाली और दुर्दशा के लिए कहीं न कहीं हम भी जिम्मेदार हैँ!


मातृ दिवस विशेष जानकारी


कब, कैसे और क्यों शुरू हुआ मदर्स डे
मातृ दिवस विशेष जानकारी
मां ,दुनिया के हर बच्चे के लिए सबसे खास सबसे प्यारा रिश्ता। उस मां को सम्मानित करने के लिए मई माह के दूसरे रविवार को विशेष दिवस मनाया जाता है।
लेकिन अलग-अलग देशों में इस दिन को मनाने की अलग-अलग कहानी है। आइए जानते हैं मदर्स डे पर संजोई गई यह स्पेशल जानकारियां-
मदर्स डे ग्राफटन वेस्ट वर्जिनिया में एना जॉर्विस द्वारा समस्त माताओं और उनके गौरवमयी मातृत्व के लिए तथा विशेष रूप से पारिवारिक और उनके परस्पर संबंधों को सम्मान देने के लिए आरंभ किया गया था। यह दिवस अब दुनिया के हर कोने में अलग-अलग दिनों में मनाया जाता हैं। इस दिन कई देशों में विशेष अवकाश घोषित किया जाता है।
कुछ विद्वानों का दावा है कि मां के प्रति सम्मान यानी मां की पूजा का रिवाज पुराने ग्रीस से आरंभ हुआ है। कहा जाता है कि स्य्बेले ग्रीक देवताओं की मां थीं, उनके सम्मान में यह दिन मनाया जाता था।
यह दिन त्योहार की तरह मनाने की प्रथा थी। एशिया माइनर के आस-पास और साथ ही साथ रोम में भी वसंत के आस-पास इदेस ऑफ मार्च 15 मार्च से 18 मार्च तक मनाया जाता था।
मनाया जाता था मदरिंग संडे
यूरोप और ब्रिटेन में मां के प्रति सम्मान दर्शाने की कई परंपराएं प्रचलित हैं। उसी के अंतर्गत एक खास रविवार को मातृत्व और माताओं को सम्मानित किया जाताथा। जिसे मदरिंग संडे कहा जाता था। मदरिंग संडे फेस्टिवल, लितुर्गिकल कैलेंडर का हिस्सा है। यह कैथोलिक कैलेंडर में लेतारे संडे, लेंट में चौथे रविवार को वर्जिन मेरी और 'मदर चर्च' को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता हैं।
परंपरानुसार इस दिन प्रतीकात्मक उपहार देने तथा मां का हर काम परिवार के सदस्य द्वारा किए जाने का उल्लेख मिलता है।
जुलिया वॉर्ड होवे ने मनाया सबसे पहले मदर्स डे
अमेरिका में सर्वप्रथम मदर डे प्रोक्लॉमेशन जुलिया वॉर्ड होवे द्वारा मनाया गया था। होवे द्वारा 1870 में रचित "मदर डे प्रोक्लामेशन" में अमेरिकन सिविल वॉर (युद्घ) में हुई मारकाट संबंधी शांतिवादी प्रतिक्रिया लिखी गई थी। यह प्रोक्लामेशन होवे का नारीवादी विश्वास था जिसके अनुसार महिलाओं या माताओं को राजनीतिक स्तर पर अपने समाज को आकार देने का संपूर्ण दायित्व मिलना चाहिए।
1912 में