मोहब्बत

मोहब्बत मेरी उनको बेकरार करेगी
हर धड़कन उनका ही इंतज़ार करेगी
हमने तो उनसे इतना प्यार किया हाइ की
बेवफाई भी 100 बार सोच वार करेगी

हर दाग दाग नहीं होता .....
हर यार बफादार नहीं होता . .
ये तो दिल मिलने के बात है .
वर्ना सैट फेरो के बाद व् प्यार नहीं होता

मर कर बी हम दोस्ती निभाएंगे .
भूत बनकर पास आएंगे .
अगर अप सो रहे होंगे तो आपको जगयेगे ,
डरना मत , हम "मिस " बोलकर भाग जायेंगे .


तुम्हारे प्यार मैं पागल हूँ ,कोई बेवफा नही .
प्यार मैं जान देनेवाला हूँ ,कोई कातिल नही .
दुनिया की हार अंधी से बचानेवाला हूँ ,कोई दिवार (वाल ) नही
क्या आब मुझसे प्यार करोगी ?सायेद तुम मुझे कभी देखा भइ नही .


तुम से कितना प्यार है दील में उतर के देखलो
यकीन आये तो फिर दिल बदल के देखलो

हम ने अपनी हर साँस पैर नाम तेरा लिख दिया
इक तेरे पाने की खातिर खुद को पागल कर दियअ

इश्क में तुम भी सनम हद्द से गुज्जार के देख लो
तुम से कितना प्यार है दिल में उतर के देख लो
जाने क्यूँ सारे जहाँ से हो गया हूँ बे खबर

जब से तुम आँखों में आये , जागती है ये नज़र

अपनी रातों से मेरी रातें बदल के देख लो

तुम से कितना प्यार है दिल में उतर के देख लो
इंकार करने पर भी चाहत का इकरार क्यों है

उसे पाना नहीं है मेरी तकदीर में शायद (कोप्य्रिघ्त
फिर भी हर मोड़ पे उसीका इन्तिज़ार क्यों है

मुस्कुराना





वाह प्रभू क्या तेरी लीला..
चुहा बिल्ली से डरता है
बिल्ली कुत्ते से डरती है






कुत्ता आदमी से,


आदमी बीवी से,


और बीवी चुहे से





महोब्बत हो जाती है


या करनी पड़ती है?


वैरी सिंपल..
लड़की खुबसूरत हो
तो हो जाती है,
और अगर अमीर हो तो
करनी पड़ती है!




मुस्कुराना तो हर लड़की की अदा है,
(वाह वाह)
मुस्कुराना तो हर लड़की की अदा है,,
जो उसे महोब्बत समझे वो सबसे बड़ा गधा है।





मेरी दुनिया में पहचान नहीं है
बिन इसके किसी की शान नहीं है,
जब रिप्लाई करोगे तभी तो फारवर्ड करुंगा
मेरी एस एम एस की दुकान नहीं है।





अबे खजूर
जू से भागे हुए लंगूर
अबे सड़े हुए केले के छिलके
चूसे हुए आम
सर्कस के रिटायर्ड बंदर
ऐसा किसी को न कहना
फील होता है!


वो रेशमी बालों वाली
भूरी आंखों वाली


कोमल हाथों और और नरम पैरों वाली
मटकती हुई अंधेरे में
तुम्हारे पास आयेगी और धीरे से
बोलेगी..."मियाऊं"...




हर पल करूं तो शरारत होगी,
हर दिन करूं तो परेशानी होगी
कभी भी न करूं तो कंजूसी होगी
पर दिल से करूं तो शायद खुशी होगी। 
हुई ना?








बन कर जो धड़कन दिल के करीब आते हैं
एक एक लम्हा जिनकी याद में बिताते हैं
आंसूं निकलते हैं वो जब याद आते हैं
जां चली जाती है जब वो रूठ जाते हैं



बन कर जो धड़कन दिल के करीब आते हैं
एक एक लम्हा जिनकी याद में बिताते हैं
आंसूं निकलते हैं वो जब याद आते हैं
जां चली जाती है जब वो रूठ जाते हैं