वह मुस्करा रहे


चमक रहे हैं उनके चेहरे,

लगे हैं उनके घर के बाहर पहरे,



वह मुस्करा रहे

या अपना खौफ छिपा रहे हैं।उनकी नीयत का आभास नहीं होता पर इधर उधार आंखें नचा रहे हैं



शायद कोई शिकार ढूंढ रहे

या अपने को बचा रहे हैं।उनको फरिश्ता कह नहीं सकते शैतान दिखते नहीं है,

उनकी काली करतूतों के किस्से आम हैं

उनकी टेढ़ी चालें इसकी गवाह है

जिनको जानता है पूरा ज़मानाउनको वह खुद से छिपा रहे हैं।

सायरी

सोना दिया सोनार को पायल बना दिया ?
दिल दिया दिलदार घायल बना दिया |

-------------------------------------------------------


रोशनी चाँद से होती हे ,सितारों से नही ?
मोहबत एक से होती हजार से नही |

---------------------------------------------------
आप के लिय दिल का रहो में  फूल बिछाया था
मगर आप नही आई तो मेरा क्या  कसूर है 

-----------------------------------------------------

नशो से दूर गमो से चूर हे "
जिन्दा इसलिए किसी के माग का सिन्दूर हूँ

मेरी दोस्ती


मेरी  धरकनो  में  आप  का  ही  रज  होगा ,
मेरी  बात  का  बस  येही  अंदाज़  होगा ,
कभी  बेवफाई  नहीं  करते  हम  दोस्ती  में ,
मेरी  दोस्ती  पे  आप  को  हमेशा  नाज़  होगा !!!
`

हर  सितारा  चाँद  क  करीब  नहीं  होता ,
दिल  की  दौलत  वाला  गरीब  नहीं  होता ,
दोस्त  तुम  जैसा  मिला  है  मुकद्दर  से ,
हर  किसी  का  ऐसा  नसीब  नहीं  होता ….
`

तारों  को  गिनने  वाले  हम  न थे ,
अकेले  गुनगुनाने  वाले  हम  न  थे ,
ये  तो  आपकी  दोस्ती  ने  आदत  लगा  दी …
वरना  किसी  को  इतना  याद  करने  वाले  हम  न  थे …
`

हर  ख़ुशी  दिल  क  करीब  नहीं  होती ,
ज़िन्दगी  गमो  से  दूर  नहीं  होती ,
ऐ  दोस्त  इस  दोस्ती  को संजोकर  रखना ,
ऐसी  दोस्ती  हर  किसी  को  नसीब  नहीं होती    …
`
अगर  इतनी  प्यारी  सोच  तुम्हारी  न  होती ,
मुलाकात  तुमसे  हमारी  न होती
तड़पते  रहते  सच्चे  दोस्त  के लिए
अगर  दोस्ती  तुमसे  हमारी  न  होती …